Posted on 23 April 2015

Coal-related pollution chokes mining towns in JharkhandWashery_1

The Dhanbad and Jharia regions in Jharkhand, noted for rampant coal mining and related operations, face grave environmental issues due to dumping of pollutant by-products from coal washeries. Shripad Dharmadhikary reports on India Together.

Article, published 29 April 2015.

Read full article here.

————————————————————————————————————————————————————————

Posted on 23 April 2015

नदी जोड़ योजना

मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने 22 अप्रैल 2015 को इंदौर के निकट जानापाव में कहा कि मालवा की साढ़े सात नदियों को नर्मदा से जोड़कर उन्‍हें जीवित करेंगें।  पत्रिका में प्रकाशित मुख्‍यमंत्री के बयान को देखने के लिए यहॉं क्लिक करें।

Sangam Sthal

नर्मदा का क्षिप्रा से मिलन स्‍थल

मध्‍यप्रदेश का मालवा क्षेत्र खेती के मामले में बहुत समृद्ध रहा है। इसकी समृद्धि का बयान करती एक कहावत यहॉं प्रचलित है – पग-पग रोटी। डग-डग नीर।

लेकिन प्राकृतिक संसाधनों खासकर पानी का प्रबंधन ठीक नहीं किए जाने के कारण मालवा की नदियॉं या तो सूख गई है या सूखने के कगार पर है।  इन नदियों को फि‍र से सदानीरा बनाने के बयाज नदी जोड़ के नाम पर उधार के पानी से इन्‍हें नहर की तरह बहाने के प्रयास किए जा रहे हैं। मालवा की नदियों को नर्मदा से जोड़ने की योजना के तहत अभी तक नर्मदा को क्षिप्रा से जोड़ा गया है। क्षिप्रा नदी जोड़ के मुद्दों पर आधारित लेख देखने के लिए यहॉं क्लिक करें।

————————————————————————————————————————————————————-