INLAND WATERWAYS

The Government of India in April 2016 launched the ambitious National Inland Waterways program that plans to convert 111 rivers or river stretches into large commercial waterways. These waterways represent possibly the largest intervention in and  disruption of our rivers, second only to large dams.

Manthan has initiated a programme of detailed study of these waterways, their implementation and their impacts.

 

Reports and Articles in this Theme

 


India’s national waterways: what are the impacts on rivers, ecology and livelihoods?

“The government has made a strong push for inland waterways but confusion over environmental assessments and clearance processes cloud development.” Shripad Dharmadhikary raises some fundamental questions in this article.

Article, published 9 Nov 2017.

Read the full article here.

——————————————————————————————————————–

राष्‍ट्रीय अंतर्देशीय जलमार्ग स्थिति रिपोर्ट

भारत सरकार ने हाल ही में राष्ट्रीय अंतर्देशीय जलमार्गो की एक महत्वकांक्षी परियोजना को हाथ में लिया है। इस

परियोजना के तहत भारत की 111 नदियों में बड़े और व्यावसायिक अंतर्देशीय जलमार्ग बनाने हैं। बड़े बॉंधों के बाद शायद अंतर्देशीय जलमार्ग नदियों के विनाश के सबसे बड़े कारण के रूप में उभर रहा है।

मंथन और श्रुति की यह नई रपट अंतर्देशीय जलमार्गों से संबंधित मुद्दों की विस्‍तृत विवेचना प्रस्‍तुत करती है। जिसमें जलमार्गो से जुड़े तथ्य, क़ानूनी प्रावधान और उसकी पर्याप्तता, जलमार्ग बनाने और उनके रखरखाव के लिए हस्तक्षेप, इन हस्तक्षेपों का सामाजिक, पर्यावरणीय और आर्थिक परिणाम शामिल हैं। साथ ही, यह रिपोर्ट इन जलमार्गों की व्यवहार्यता सहित कुछ बुनयादी मुद्दों को उठाती है और कुछ महत्वपूर्ण सुझाव भी देती है। रिपोर्ट पर आपकी टिप्पणियों और सुझावों का स्वागत है।

लेखक: श्रीपाद धर्माधिकारी और जिंदा सांडभोर, हिंदी अनुवाद: योगेन्द्र दत्त, प्रकाशन: मंथन अध्ययन केंद्र और SRUTI, नई दिल्ली.

रपट प्रकाशन : 30 मार्च 2017

इस रिपोर्ट का पीडीएफ वर्जन यहॉं से डाउनलोड किया जा सकता है।

————————————————————————————————————————————————————-

National Inland Waterways in India: A Strategic Status Report

The Government of India has recently launched the ambitious National Inland Waterways program that plans to convert 111 rivers or river stretches into large commercial waterways. These waterways represent possibly the largest intervention in and  disruption of our rivers, second only to large dams.

This new report examines the scope and extent of the waterways program, its rationale, the legal regime and its adequacy, interventions needed to create and maintain waterways, impacts of these interventions – social, environmental and financial, questions  about the  viability and  desirability of waterways, and raises several key issues and presents suggestions for the way forward.

Authored by Shripad Dharmadhikary  and Jinda Sandbhor, Published by Manthan Adhyayan Kendra and SRUTI, New Delhi. Comments and feedback are welcome.

Report, published 30 March 2017.

Read the full report here.